Category

श्री हनुमान चालीसा (Hanuman Chalisa)

सभी चालीसा पाठ में हनुमान चालीसा (Hanuman Chalisa) का विशिष्ट स्थान है। श्री हनुमान चालीसा (Hanuman Chalisa) का पाठ महावीर हनुमान को खुश करने का एक अचूक तरीका माना जाता है। इसमें बहुत ही सरल शब्दों में हनुमान जी का वर्णन किया गया है। 40 पंक्तियों के इस हनुमान चालीसा का पाठ करने से भक्त पर हनुमान की विशेष कृपा बनी रहती है। इसकी रचना गोस्वामी तुलसी दास ने की है। इसे रामायण के सुन्दर काण्ड का संक्षिप्त रूप माना जाता है। इस चालीसा के पाठ से मनुष्य के अंदर और बाहर की सभी नकारात्मक ऊर्जा दूर होती है। रात्रि में सोने से पहले इसकी पाठ करने से बुरे सपने नहीं आते हैं।

हनुमान चालीसा पाठ से लाभ (Benefits of Hanuman Chalisa Chanting)

श्री हनुमान चालीसा (Hanuman Chalisa)

 

।। दोहा ।।

श्रीगुरु चरन सरोज रज, निज मनु मुकुरु सुधारि।
बरनऊं रघुबर बिमल जसु, जो दायकु फल चारि।।
बुद्धिहीन तनु जानिके, सुमिरौं पवन-कुमार।
बल बुद्धि बिद्या देहु मोहिं, हरहु कलेस बिकार।।

।। चौपाई ।।

जय हनुमान ज्ञान गुन सागर। जय कपीस तिहुं लोक उजागर।।

रामदूत अतुलित बल धामा। अंजनि-पुत्र पवनसुत नामा।।

महाबीर बिक्रम बजरंगी। कुमति निवार सुमति के संगी।।

कंचन बरन बिराज सुबेसा। कानन कुंडल कुंचित केसा।।

हाथ बज्र औ ध्वजा बिराजै। कांधे मूंज जनेऊ साजै।

संकर सुवन केसरीनंदन। तेज प्रताप महा जग बन्दन।।

विद्यावान गुनी अति चातुर। राम काज करिबे को आतुर।।

प्रभु चरित्र सुनिबे को रसिया। राम लखन सीता मन बसिया।।

सूक्ष्म रूप धरि सियहिं दिखावा। बिकट रूप धरि लंक जरावा।।

भीम रूप धरि असुर संहारे। रामचंद्र के काज संवारे।।

लाय सजीवन लखन जियाये। श्रीरघुबीर हरषि उर लाये।।

रघुपति कीन्ही बहुत बड़ाई। तुम मम प्रिय भरतहि सम भाई।।

सहस बदन तुम्हरो जस गावैं। अस कहि श्रीपति कंठ लगावैं।।

सनकादिक ब्रह्मादि मुनीसा। नारद सारद सहित अहीसा।।

जम कुबेर दिगपाल जहां ते। कबि कोबिद कहि सके कहां ते।।

तुम उपकार सुग्रीवहिं कीन्हा। राम मिलाय राज पद दीन्हा।।

तुम्हरो मंत्र बिभीषन माना। लंकेस्वर भए सब जग जाना।।

जुग सहस्र जोजन पर भानू। लील्यो ताहि मधुर फल जानू।।

प्रभु मुद्रिका मेलि मुख माहीं। जलधि लांघि गये अचरज नाहीं।।

दुर्गम काज जगत के जेते। सुगम अनुग्रह तुम्हरे तेते।।

राम दुआरे तुम रखवारे। होत न आज्ञा बिनु पैसारे।।

सब सुख लहै तुम्हारी सरना। तुम रक्षक काहू को डर ना।।

आपन तेज सम्हारो आपै। तीनों लोक हांक तें कांपै।।

भूत पिसाच निकट नहिं आवै। महाबीर जब नाम सुनावै।।

नासै रोग हरै सब पीरा। जपत निरंतर हनुमत बीरा।।

संकट तें हनुमान छुड़ावै। मन क्रम बचन ध्यान जो लावै।।

सब पर राम तपस्वी राजा। तिन के काज सकल तुम साजा।

और मनोरथ जो कोई लावै। सोइ अमित जीवन फल पावै।।

चारों जुग परताप तुम्हारा। है परसिद्ध जगत उजियारा।।

साधु-संत के तुम रखवारे। असुर निकंदन राम दुलारे।।

अष्ट सिद्धि नौ निधि के दाता। अस बर दीन जानकी माता।।

राम रसायन तुम्हरे पासा। सदा रहो रघुपति के दासा।।

तुम्हरे भजन राम को पावै। जनम-जनम के दुख बिसरावै।।

अन्तकाल रघुबर पुर जाई। जहां जन्म हरि-भक्त कहाई।।

और देवता चित्त न धरई। हनुमत सेइ सर्ब सुख करई।।

संकट कटै मिटै सब पीरा। जो सुमिरै हनुमत बलबीरा।।

जै जै जै हनुमान गोसाईं। कृपा करहु गुरुदेव की नाईं।।

जो सत बार पाठ कर कोई। छूटहि बंदि महा सुख होई।।

जो यह पढ़ै हनुमान चालीसा। होय सिद्धि साखी गौरीसा।।

तुलसीदास सदा हरि चेरा। कीजै नाथ हृदय मंह डेरा।।

।। दोहा ।।

पवन तनय संकट हरन, मंगल मूरति रूप।
राम लखन सीता सहित, हृदय बसहु सुर भूप।।

हनुमान चालीसा पाठ करने के नम्नलिखित फायदे हैं (Benefits of Hanuman Chalisa Chanting)-

  1. हनुमान चालीसा (Hanuman Chalisa) के नियमित विधिवत श्रवण या पाठ करने से आपके और आपके परिवार की सभी नकारात्मक तत्व दूर होती है ।
  2. शनि ग्रह से प्रभावित लोग शनिवार को स्नान के बाद आठ बार हनुमान चालीसा (Hanuman Chalisa) पढ़ें। इससे शनि दोष का प्रभाव ख़त्म हो जाता है।
  3. हनुमान चालीसा (Hanuman Chalisa) के पाठ से हनुमान जी (Hanuman Ji) प्रसन्न होते हैं और इस प्रकार आप और आपके परिवार पर हनुमान जी की विशेष कृपा बनी रहती है ।
  4. सुबह -सुबह हनुमान चालीसा (Hanuman Chalisa) को पढ़ने से दिन अच्छा गुजरता है ।
  5. हनुमान चालीसा (Hanuman Chalisa) पाठ करने से मन को शांति मिलती है और आप कुछ समय के लिए अपने सभी तनावों को भूल जाओगे ।
  6. हनुमान चालीसा (Hanuman Chalisa) पढ़ने से व्यक्ति को दिव्य आनंद की अनुभूति होती है।
    ऐसा कहा जाता है कि जब आपको लगे कि आप या आपके घर पर बुरी आत्माओं का प्रकोप है तो भगवान हनुमान चालीसा (Hanuman Chalisa) का पाठ कर बुरी आत्माओं को दूर किया जा सकता है। बुरी आत्माएं हमेशा भगवान हनुमान (Hanuman Ji) से डरती हैं।
  7. हनुमान चालीसा का पाठ करते समय उसका अर्थ समझने की कोशिश करें क्योंकि इससे चालीसा की शक्तियों का ज्यादा से ज्यादा प्रभाव होता है और अधिकतम लाभ मिलता है। ऐसा कहा जाता है कि जब हनुमान चालीसा (Hanuman Chalisa) का पाठ बीमार व्यक्ति करता है तो वो बेहतर महसूस करने लगता है।
  8. जिन लोगों में आत्मविश्वास की कमी है और जो कुछ भी करने से डरते हैं उन्हें हनुमान चालीसा जरूर पढ़ना चाहिए। यह उन्हें आत्मविश्वास बढ़ाने में मदद करेगा। हनुमान चालीसा (Hanuman Chalisa) आपके व्यक्तित्व को बेहतर बनाने में मदद करती है और जीवन में सभी समस्याओं का सामधान बेहतर तरीके से करती है।
  9. भगवान हनुमान (Hanuman Ji) एक ऐसे देवता हैं जो किसी भी समस्या का समाधान कर सकते हैं और इनकी कृपा से कोई भी असंभव कार्य संभव हो जाता है। यदि आपको कहीं भी कठिनाई महसूस हो रही है तो हनुमान चालीसा (Hanuman Chalisa) पढ़ें। यह आपके लिए कार्य को आसान करेगा और आपको इसमें सफल बनाएगा।
  10. यात्रा के दौरान या घर से निकलने से पहले हनुमान चालीसा (Hanuman Chalisa) पढ़ना यह सुनिश्चित करता है कि यात्रा अच्छी होगी । आप देखेंगे कि कई वाहनों में भगवान हनुमान की मूर्ति सामने खड़ी है। ऐसा इसलिए है क्योंकि यह माना जाता है कि भगवान हनुमान (Hanuman Ji) दुर्घटनाओं को रोक सकते हैं और यात्रा की सफलता सुनिश्चित कर सकते हैं।
  11. जब व्यक्ति के जीवन में परेशानी आती है तो हनुमान चालीसा पाठ (Hanuman Chalisa Paath) कर परेशानियों को हल पाया जा सकता है। ऐसा कहा जाता है कि भगवान हनुमान (Hanuman Ji) सभी परेशानियों को दूर करते हैं और सुनिश्चित करते हैं कि व्यक्ति को सफलता मिले। नियमित रूप से हनुमान चालीसा का पाठ करने से आपके सफलता के रास्ते में आने वाली सभी बाधाएं और परेशानियां दूर हो जाती हैं और आप जो भी करना चाहते हैं उसमें सफल हो सकते हैं।
  12. यदि आप शादी करने की योजना बना रहे हैं तो शादी से पहले 108 बार हनुमान चालीसा (Hanuman Chalisa) पढ़ें। इससे यह सुनिश्चित होगा कि उनका वैवाहिक जीवन सुखी और शांतिपूर्ण होगा।
  13. यदि किसी को बच्चा नहीं होता है या बच्चा अच्छी तरह से पढ़ाई नहीं कर रहा है तो हनुमान चालीसा के पाठ (Hanuman Chalisa Paath) से लाभ मिल सकता है ।
  14. बिस्तर पर जाने से पहले हनुमान चालीसा (Hanuman Chalisa) पढ़ने से आपको अच्छी नींद आएगी ।
  15. हनुमान चालीसा का पाठ (Hanuman Chalisa Paath) आपको शारीरिक दर्द से राहत दे सकती है।

हनुमानजी की आरती – Hanuman Ji Ki Aarti

मंगलवार व्रत कथा – Mangalvar Vrat Katha in Hindi

बजरंग बाण – Bajarang Baan in Hindi 

हनुमान कवच  – Hanuman Kavach

हनुमानजी, भगवान राम के ही भाई थे

हनुमान जी ने किया प्रभु श्री राम के विरुद्ध युद्ध का संचालन किया

हनुमान जी भूले अपनी शक्ति – Hanuman forgot his power in Hindi