Category

गणेश जी की आरती – Ganesh Ji ki Aarati

बुधवार का दिन हैं भगवान गणेश की का दिन माना जाता हैं। महादेव एवं पार्वती के प्रिय पुत्र श्री गणेश एक ऐसे देव हैं जिनका महत्व सभी देवों में विशेष माना जाता है जिसके फलस्वरूप किसी भी पूजा से पहले श्री गणेश की पूजा की जाती हैं। श्री गणेश जी को विघ्नहर्ता माना जाता है। इनकी पूजा करने के बाद गणेश आरती (Ganesh Aarati) अवश्य करना चाहिए।

गणेश जी की आरती (Ganesh Ji ki Aarati)

जय गणेश जय गणेश जय गणेश देवा
माता जाकी पार्वती पिता महादेवा ॥ जय…

एक दंत दयावंत चार भुजा धारी।
माथे सिंदूर सोहे मूसे की सवारी ॥

अंधन को आंख देत, कोढ़िन को काया।
बांझन को पुत्र देत, निर्धन को माया ॥ जय…

हार चढ़े, फूल चढ़े और चढ़े मेवा।
लड्डुअन का भोग लगे संत करें सेवा ॥

दीनन की लाज रखो, शंभु सुतकारी।
कामना को पूर्ण करो जाऊं बलिहारी॥ जय…

‘सूर’ श्याम शरण आए सफल कीजे सेवा।
जय गणेश जय गणेश जय गणेश देवा।
माता जाकी पार्वती पिता महादेवा॥ जय…

श्री गणेश चालीसा – Ganesh Chalis

भगवान गणेश की जन्म कथा – Ganesh Ji ke Janm Ki Kahani

जानें क्यों दूर्वा दल गणेश जी पर अर्पित किया जाता है