Category

Category: vrat katha

मोहिनी एकादशी व्रत के नियम (Mohini Ekadashi Vrat Vidhi )

मोहिनी एकादशी व्रत के नियम (Mohini Ekadashi Vrat Vidhi ) वैशाख मास के शुक्लपक्ष के एकादशी तिथि को मोहिनी एकादशी के रूप में मनाय जाता है। मोहिनी एकादशी के दिन व्रत (Mohini Ekadashi Vrat) रख कर भगवान विष्णु की आराधना करने से धन – सम्पति में वृद्धि होती है और जीवन में सुख – शांति की प्राप्त होती है। स्कंद

नवरात्रि में दुर्गा पूजा व्रत की सरल विधि

माँ दुर्गा पूजा और व्रत की सरल विधि (Durga Puja Vrat Ki Vidhi) इस संक्षिप्त पूजा और व्रत की विधि (Durga Puja Vrat Ki Vidhi) से भक्त अपने घर में माता की पूजा अर्चना करें । प्रतिपदा यानि पहले दिन ब्रह्म मुहूर्त में स्नान करें। ततपश्चात अपने दायीं हथेली पर गंगाजल या जल लेकर निम्नलिखित मन्त्र से स्वयं पर एवं पूजन

श्री साईं बाबा पूजन विधि और साईं बाबा व्रत कथा (Sai Baba Vrat Katha )

सबका मालिक एक श्री साईं बाबा पूजन विधि और  साईं बाबा व्रत कथा (Sai Baba Vrat Katha aur Vidhi ) साईं बाबा के पूजन व साईं बाबा व्रत कथा के लिए गुरुवार का दिन उत्तम है। यह एक ऐसा व्रत है जिसे कोई भी कर सकतें हैं। चाहे बच्चा हो या बुजुर्ग या महिला या किसी भी जाति के लोग, साईं बाबा

संतोषी माता की शुक्रवार व्रत कथा एवं व्रत विधि (Santoshi Mata Vrat Katha and Vrat Rules)

संतोषी माता की व्रत (Santoshi Mata Vrat) करने एवं संतोषी माता की व्रत कथा (Santoshi Mata Vrat Katha) पढ़ने व सुनने से सुख, शांति, सम्पति, सुहाग सहित अन्य सभी प्रकार की मनोकामना पूरी होती है। संतोषी माता व्रत की विधि (Santoshi Mata Vrat Rules) संतोषी माता की शुक्रवार व्रत कथा (Santoshi Mata Vrat Katha) प्राचीन काल की बात है, किसी गांव

बृहस्पतिवार / गुरुवार व्रत कथा एवं पूजा विधि (Guruvar Vrat Katha Evam Puja Vidhi)

बृहस्पतिवार / गुरुवार व्रत कथा एवं पूजा विधि (Guruvar Vrat Katha Evam Puja Vidhi) गुरुवार के दिन भगवान बृहस्पति की पूजा करने से परिवार में सुख-शांति आती है। घर में धन-दौलत की कमी नहीं होती है । जल्द और सफल वैवाहिक जीवन के लिए भी बृहस्पतिवार / गुरुवार (Guruvar Vrat) का व्रत करना चाहिए। भगवान बृहस्पति अपने भक्तों को कभी निराश नहीं

रविवार व्रत कथा – सूर्य देव जी की कथा (Ravivar Vrat Katha)

रविवार भगवान सूर्यदेव का दिन माना जाता है। प्रत्येक रविवार सूर्य देव की पूजा विधिवत करना चाहिए साथ ही पूजा उपरांत व्रत कथा सुनना चाहिए। आइये आज हम जानते है प्रभु सूर्यदेव की कथा और उसकी विधि। सूर्य देव जी की रविवार व्रत कथा प्राचीन काल में किसी नगर में एक बुढ़िया रहती थी। वह नियमित रूप से प्रत्येक रविवार

शनिवार व्रत कथा (Shani Vrat Katha)

पुराण में शनि ग्रह के प्रभाव से मुक्त होने के लिए बताया गया है कि “मूल” नक्षत्र वाले शनिवार से प्रारम्भ कर सात शनिवार तक शनिदेव की पूजा और व्रत करनी चाहिए। शनिवार व्रत कथा (Shani Vrat Katha) एक बार स्वर्गलोक में सबसे श्रेष्ठ देव कौन है के प्रश्न पर नौ ग्रहों में बहस प्रारम्भ हो गया। सभी ग्रह निर्णय के

सोमवार का व्रत कथा और व्रत विधि – भोलेनाथ की कृपा प्राप्त होती है इस पवित्र व्रत से

अगर कोई भी व्यक्ति शिव शंकर भोलेनाथ को प्रसन्न करने के लिए सोमवार का व्रत करता है, तो श्रद्धा भाव से  सोमवार का व्रत कथा का श्रवण निश्चित रूप से करना चाहिए। शिव बहुत भोले हैं तभी इनका नाम भोलेनाथ है। शिव आराधना अगर सच्ची श्रद्धा से किया जाय तो ये शीघ्र प्रसन्न हो जाते हैं। शीघ्र प्रसन्न होने के कारण

मंगलवार व्रत कथा -Mangalvar Vrat Katha

धन-सम्पत्ति, यश, वैभव और संतान प्राप्ति के लिए प्रत्येक मंगलवार को पूरी दिन व्रत रख कर मंगलवार का व्रत कथा सुनना शुभ माना जाता है। अतः मंगलवार का व्रत करने वाले व्यक्ति को मंगलवार व्रत कथा का श्रवण पूरी श्रद्धा से करना चाहिए। इससे हनुमान जी प्रसन्न होते हैं और सभी मनोकामनायें पूरी करते हैं। हनुमान जी ऐसे देवता हैं