Category

Category: Stotra

द्वादश ज्योतिर्लिंग स्तोत्र (Dwadash Jyotirling Stotra)

द्वादश ज्योतिर्लिंग स्तोत्र (Dwadash Jyotirlinga Stotra) इस छोटे से शिव स्तोत्र को सुबह शाम पढ़ने मात्र से सात जन्मों का पाप कटित होता है। चार पंक्तियों के द्वादश ज्योतिर्लिंग (Dwadash Jyotirlinga) स्तोत्र में बताया गया है कि किस जगह पर है शिव के 12 ज्योतिर्लिङ्ग हैं जिसके स्मरण मात्र से मनुष्य सभी पापों से मुक्त हो जाता है । स्तोत्र :-

महादेव को प्रसन्न करने का सर्वश्रेष्ठ स्तोत्र शिव रूद्राष्टकम (Shiv Rudrashtakam)

शिव रूद्राष्टकम (Shiv Rudrashtakam) भगवान शिव के अनेक स्तोत्रों में एक विशेष स्तोत्र है शिव रुद्राष्टक (Shiv Rudrashtakam)। जो भी मानव इस विशेष स्तोत्र का नियमित सश्वर श्रद्धापूर्वक पाठ करता है उस पर भगवान शिव की कृपा बनी रहती है। रामचरित मानस से लिया गया इस स्तोत्र को नियमियत पाठ कर मनुष्य सभी प्रकार के दुःख, दारिद्र और बाधा से

जीवन में सुरक्षा प्रदान करता है प्रभु श्री राम कृत हनुमान कवच (Hanuman Kavach)

हनुमान कवच (Hanuman Kavach) प्रतिदिन सुबह और शाम हनुमान कवच का पाठ करने से मनुष्य का सारा दुःख दूर हो जाता है। उसके सारे शत्रु दूर हो जाते हैं और यह उनके जीवन में सुरक्षा प्रदान करता है। इस हनुमत कवच की रचना स्वयं भगवन राम ने की है। प्रभु श्री राम स्वयं इसका पाठ प्रतिदिन राम – रावण युद्ध

शिव पंचाक्षरी मंत्र ( Shiv Panchakshari Mantra )

शिव चतुर्दशी के दिन शिव पंचाक्षरी मंत्र ( Shiv Panchakshari Mantra ) पढ़ने से सभी मनोकामना पूरी होती है। शिव अर्थात भगवान महादेव की उपासना में शिव पंचाक्षरी मंत्र (Shiv Panchakshari Mantra) बहुत ही विशेष महत्व रखता है। महीने के चतुर्थी तिथि को सुबह स्नान कर शिवलिंग की पूजा करें साथ ही शिवलिंग पर बेलपत्र , धतूरे, धतूरे की फूल इत्यादि का